मायावती ने अखिलेश का क्यों छोड़ा साथ? पीछे है बड़ा गेमप्लान

Jun 7 2019 12:06PM (IST)
मायावती ने अखिलेश का क्यों छोड़ा साथ? पीछे है बड़ा गेमप्लान

बसपा सुप्रीमो मायावती ने पांच महीने के टेस्ट ड्राइव के बाद ही सपा संग गठबंधन तोड़ दिया. तर्क दिया कि अखिलेश उन्हें सपा का यादव वोट नहीं दिला पाए. जबकि जिन दस लोकसभा सीटों पर बसपा जीती, वहां उन्हें 40 से 56 प्रतिशत तक वोट मिले. क्या 2017 के विधानसभा चुनाव में 22.23 प्रतिशत वोट शेयर पाने वाली बसपा की लोकप्रियता दो साल में ही इतनी बढ़ गई कि उसे दोगुने से भी ज्याद वोट मिल गए.राजनीतिक विश्लेषक इससे इनकार करते हैं. उनका कहना है कि गठबंधन जिन 15 सीटों पर जीता, उसमें मैनपुरी को छोड़कर 14 सीटों पर पूरे वोट ट्रांसफर हुए.

मगर बीजपी ने यादव माइनस ओबीसी और गैर जाटव दलितों को साधकर 50 से 51 प्रतिशत वोट शेयर का टारगेट पूरा कर लिया. जिससे गठबंधन का जातीय जनाधार का गणित ही फेल हो गया. सवाल उठता है कि वोट ट्रांसफ होने पर भी मायावती ने बीच राह में अखिलेश यादव को क्यों साथ छोड़ दिया, जबकि अखिलेश ने गठबंधन को मिटने से बचाने के लिए कदम-कदम पर समझौते किए.

यूपी की राजनीति पर बारीक नजर रखने वाले वरिष्ठ पत्रकार रतन मणि लाल कहते हैं कि मायावती ने राजनीति चातुर्य का परिचय देते हुए सपा के संसाधनों और कार्यकर्ताओं का लोकसभा चुनाव में भरपूर इस्तेमाल कर दोगुना वोट शेयर जोड़ा. जिससे सीटों को शून्य से 10 तक पहुंचाया, फिर जब लगा कि इससे आगे रिश्ता रखने में फायदे की जगह नुकसान है तो उन्होंने गठबंधन तोड़ लिया. वो भी उन्होंने दांव खेलते हुए सारा ठीकरा अखिलेश पर फोड़ दिया. मायावती ने यादवों का वोट न मिलने की बात कहकर अखिलेश यादव की नेतृत्व क्षमता को भी कटघरे में खड़ा करने की कोशिश की.

मुस्लिम वोटर्स को संदेश- मजबूत तो हम ही हैं

उत्तर-प्रदेश में गठबंधन से पहले मुस्लिम वोट सपा और बसपा में बंटता था. मगर मुस्लिम वोटर्स बसपा के मुकाबले सपा को ज्यादा तरजीह देते रहे. मिसाल के तौर पर देखें तो 2012 के विधानसभा चुनावों में 2014 के लोकसभा चुनाव में सपा और कांग्रेस को कुल 66 प्रतिशत मुस्लिमों ने वोट दिए थे. जबकि बसपा को बमुश्किल 20 से 21 प्रतिशत वोट मिले. 2017 के विधानसभा चुनाव में भी सपा को ही ज्यादा मुस्लिमों के वोट मिले थे.

ऐसे में 2019 में सपा की पांच के मुकाबले बसपा के 10 लोकसभा सीटों को जीतने के बाद मायावती को लगा कि यह सटीक मौका है जब मुस्लिम वोटर्स में संदेश दिया जाए कि बीजेपी का मुकाबला करने में सपा नहीं बसपा सक्षम है. लिहाजा आगे के चुनावों में मुस्लिम वोटर्स बंटने की जगह एकमुश्त बीएसपी को वोट करें. 2011 की जनगणना के मुताबिक कुल 19.98 करोड़ की आबादी वाले यूपी में 19.26 प्रतिशत यानी 38,483, 967 मुसलमान हैं. मायावती की कोशिश है कि 21 से 22 प्रतिशत दलितों के साथ 19 से 20 प्रतिशत मुस्लिमों का एकमुश्त समर्थन हासिल कर बीजेपी से कड़ा मुकाबला किया जा सकता है.

बीजेपी के मुकाबले खुद को खड़ा करने की कोशिश

2014 में बसपा को एक भी सीटें नहीं मिलीं. 2017 के विधानसभा चुनाव में सिर्फ 19 सीटें मिलीं. जबकि पांच सांसदों और 47 विधायकों के साथ समाजवादी पार्टी उत्तर प्रदेश में बीजेपी के बाद दूसरी बड़ी पार्टी रही. यूपी में बसपा के तीसरे नंबर की पार्टी बनकर रह जाने से मायावती को बड़ा नुकसान लग रहा था. लोकसभा चुनाव 2019 में 10 लोकसभा सीटें जीतने के बाद मायावती को लगा कि अब गठबंधन तोड़कर वह बसपा पर चस्पा थर्ड नंबर की पार्टी का टैग हटा सकतीं हैं. क्योंकि गठबंधन में रहते हुए बसपा कभी नंबर दो की पार्टी होने का दावा नहीं कर सकती थी. इस प्रकार बीएसपी ने सपा की छाया से निकलने की कोशिश की.

टिकट दावेदार बढ़ेंगे, कार्यकर्ताओं में भी आएगा जोश

2007 में जब मायावती ने यूपी में 206 सीटें जीतकर अकेले दम पर सरकार बनाई थी तो बसपा कि सितारे आसमान पर थे. उपचुनाव हों या फिर 2012 के विधानसभा चुनाव...टिकट के दावेदारों की लंबी लाइन लगती थी. एक मुश्त दलित और कुछ मुस्लिम वोटों के चलते सवर्ण नेता टिकट के लिए बसपा के शीर्ष नेताओं की गणेश परिक्रमा करते थे. मगर 2012, 2014 और 2017 के चुनावों में लगातार मिली हार ने बसपा को हाशिए पर पहुंचा दिया. बसपा का काडर से लेकर तमाम जोनल कोआर्डिनेटर भी हताश हो चले.

गठबंधन की पीछे मायावती की मंशा थी कि अच्छे प्रदर्शन पर काडर में उत्साह बढ़ेगा और बसपा के राजनीतिक भविष्य को लेकर लग रहीं अटकलों पर भी विराम लगेगा. ऐसे में भले ही गठबंधन ने गुल नहीं खिलाया, फिर भी सपा से ज्यादा सीटें पाकर मायावती को लगा कि यह बेहतर मौका है साथ छोड़ने का. कम से कम काडर में उत्साह बढ़ गया है. जिसका 2022 के विधानसभा चुनाव में असर पड़ेगा.

राज्यसभा का भी गणित

यूं तो बसपा अब तक कभी उपचुनाव में भाग नहीं लेती थी. यहां तक कि जब कैराना, गोरखपुर और फूलपुर के लोकसभा उपचुनाव हुए थे तो भी बसपा ने सपा और रालोद उम्मीदवारों को ही समर्थन दिया था. मगर 11 विधायकों के इस बार सांसद बनने से खाली सीटों पर होने वाले उपचुनाव में बसपा ने लड़ने का फैसला किया है. सूत्र बता रहे हैं कि इसके पीछे मायावती की निगाह में राज्यसभा का गणित हो सकता है.

दरअसल यूपी में अगले साल खाली होने वाली राज्यसभा की सीटों पर चुनाव होना है. एक राज्यसभा सीट के लिए 33 से 35 विधायकों की जरूरत है. बसपा के पास 19 विधायक हैं. मायावती की कोशिश है कि उपचुनाव की ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतकर राज्यसभा के लिए जरूरी संख्या बल के करीब पहुंचा जाए. जिससे राज्यसभा के सीट की रेस में बीएसपी बनी रहे.

क्या है यूपी में जातीय वोट बैंक का गणित

उत्तर प्रदेश में सर्वाधिक पिछड़े(ओबीसी) और अति पिछड़े की संख्या 42 से 45 प्रतिशत है. 21 से 22 प्रतिशत दलित हैं. इसके बाद सवर्ण 18 से 20 प्रतिशत. वहीं 19.26 प्रतिशत मुस्लिम हैं. वहीं जातिवार आंकड़े देखे तो सवर्णों मे सबसे ज्यादा आठ से नौ प्रतिशत ब्राह्मण हैं. इसी तरह पिछड़ों की बात करे तो दस प्रतिशत यादव, पांच प्रतिशत कुर्मी, चार से पांच प्रतिशत मौर्य, तीन प्रतिशत लोधी हैं. दलितों की बात करें तो सर्वाधिक 14 प्रतिशत जाटव और आठ प्रतिशत गैर जाटव हैं. अन्य जातियों का प्रतिशत 20 से 21 प्रतिशत हैं.

प्रतिक्रिया दें



प्रमुख ख़बरें

राजनाथ की ललकार; कहा- तैयार हैं भारतीय जवान, पाकिस...

राजनाथ की ललकार; कहा- तैयार हैं भारतीय जवान, पाकिस्तानी बॉर्डर पर आए तो नहीं जा सकेंगे वापस

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद को बढ़ावा देना बंद कर देना चाहिए अन्यथा उसके टुकड़े-टुकड़े होने से कोई नहीं रोक सकता।

कश्मीर में बौखलाए आतंकियों ने लगाई सेब के बागान मे...

कश्मीर में बौखलाए आतंकियों ने लगाई सेब के बागान में आग, एक्शन में सेना

विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद आजतक की टीम ने जम्मू-कश्मीर के हालात का जायजा लिया. पड़ताल में पता चला कि केंद्र सरकार के कदम से बौखलाए आतंकी कश्मीर के लोगों में भय पै...

चिन्मयानंद मामले में बोलीं प्रियंका- UP सरकार महिल...

चिन्मयानंद मामले में बोलीं प्रियंका- UP सरकार महिला सुरक्षा में नाकाम

पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद पर लगे आरोपों के मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर निशाना साधा है. प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को एक ट्वीट में कहा कि उत्तर प्रदेश की भारतीय जनता ...

DUSU चुनाव: काउंटिंग शुरू, 39 फीसदी हुआ था मतदान

DUSU चुनाव: काउंटिंग शुरू, 39 फीसदी हुआ था मतदान

DUSU चुनाव में 39.90 प्रतिशत हुआ मतदानमतदान के लिए 52 केंद्र बनाए गए थेनॉर्थ कैंपस के 17 बूथों पर दोपहर तक 38 फीसद हुई वोटिंग

इमरान का कबूलनामा- जेहादियों को PAK ने ही दी ट्रेन...

इमरान का कबूलनामा- जेहादियों को PAK ने ही दी ट्रेनिंग, अमेरिका भी जिम्मेदार

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि उनके देश को अफगानिस्तान में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका का साथ देने की भारी कीमत चुकानी पड़ी है. पाक पीएम ने कहा कि अमेरिका ने अंत में अफगानिस्तान में अपन...

द्रबाबू नायडू और बेटे नारा लोकेश नजरबंद, विरोध में...

द्रबाबू नायडू और बेटे नारा लोकेश नजरबंद, विरोध में शुरू की भूख हड़ताल

तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) के प्रमुख एन. चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे नारा लोकेश को नजरबंद कर दिया गया है. दरअसल, आंध्र प्रदेश में टीडीपी नेता की हत्या के खिलाफ आज चंद्रबाबू नायडू प्रदर्शन करने वाले थे. पुलिस ...

मेष

आपके लिए आज के दिन कुछ ऐसा जरूरी है कि आप उन लोगों से दूरी बनाए रखें जो आपकी पीठ पीछे आपके लिए सिरदर्द बने हुए हैं। हो सकता है कोई व्यक्ति आपके रक्तचाप को उत्तेजित करने के लिए ऐसा तनाव पैदा करे कि आप सब काम छोड़कर उसके पीछे लग जाएं। इन बातों से आपका अपना ही समय नष्ट होगा।

और पढ़ें

वृष

आज का दिन फायदेमंद साबित होगा इसलिए कोशिशें करते रहें। शरीर अस्वस्थ हो सकता है इसलिए खाने-पीने में सावधानी रखें। स्टूडेंट्स को सलाह दी जाती है कि कुछ समय के लिए दोस्तों की महफिल लगाने की बजाय अपनी पढ़ाई पर ध्यान दें। आपकी आकर्षक पर्सनैलिटी के कारण लोग आपकी तरफ आकर्षित रहेंगे। शाम के समय घर पर बिताना अच्छा रहेगा।

और पढ़ें

मिथुन

आज का दिन आपके लिए काफी उपयोगी रहेगा। निवेश से उतना फायदा नहीं मिलेगा जितना आप सोच रहे थे। ऐसे दोस्तों की सलाह ले लें जो शेयरों के बारे में अच्छी जानकारी रखते हैं। कई ऐसे लोगों से मुलाकात हो जाएगी जो आपको अच्छी सलाह देने के लिए आगे आएंगे।

और पढ़ें

कर्क

अपने मौजूदा संकट को टालने के लिए आप अपने आसपास के लोगों से सलाह-मशविरा कर सकते हैं। कुछ प्रभावशाली लोग आपको ऐसा परामर्श दे सकते हैं कि एकाएक ही आपके अन्दर एक नई स्फूर्ति का संचार होगा। आपके उलझे हुए दिमाग में भी कुछ स्पष्ट तस्वीर उभर सकती है। यह सब आपके कष्ट-निवारण के लिए एक चमत्कारी संकेत हो सकता है।

और पढ़ें

सिंह

पारिवारिक विषमताएं सिर उठा सकती हैं। मान-सम्मान भी बढ़ेगा और अप्रत्याशित लाभ की प्राप्ति भी होगी। आर्थिक लेन-देन में सावधानी बरतें। किसी से अनबन के कारण व्यवहार व विचारों में परिवर्तन करना होगा। आपके द्वारा किए गए कार्यों का विरोध होगा। परिवार की समस्याओं के सम्बंध में कोई गलत निर्णय लेना कठिन होगा।

और पढ़ें

कन्या

क्लेश कार्य और झगड़े वाला गोचर आज के दिन भी जारी रहेगा। जिन लोगों पर आप भरोसा करेंगे, वही लोग आपको देखकर अपना रास्ता बदल लेंगे। यदि आपके पास यथेष्ट शक्ति और धैर्य का अभाव है तो उसे एकजुट करने में अपनी ताकत को लगा सकते हैं। अपनी लड़ाई आपको अकेले ही लड़नी होगी।

और पढ़ें

तुला

सहज ही सभी काम समय पर बनते नजर आएंगे। अच्छे दिनों का संयोग मन को प्रफुल्लित करेगा। कार्यसाधक गतिविधियां होंगी और वित्तीय लाभ भी यथेष्ट रूप में होगा। खर्च पर नियंत्रण रखना जरूरी है। व्यापार व व्यवसाय से सम्बंधित कई अनुभव होंगे। व्यापार व व्यवसाय से जुड़े जातकों की विभिन्न क्षेत्रों में साख बढ़ेगी। यात्राएं होंगी।

और पढ़ें

वृश्चिक

उत्सव व त्योहार में सम्मिलित होने के अवसर प्राप्त होंगे। अच्छे भोजन से स्वास्थ्य में वृद्धि होगी। मित्रों व बंधुजनों के कारण तनाव होने से घर में भी क्लेश की स्थिति पैदा हो सकती है। शुभ समाचार का आना लगातार जारी रहेगा, इसलिए वही कार्य करें, जिसके बनने की उम्मीद हो। संतान के प्रति थोड़ा चिंतित होंगे पर समझदारी से काम लें।

और पढ़ें

धनु

आज आपको अपने काम को पूरा करने में किसी ठोस सहारे की जरूरत नहीं पड़ेगी। आपका अपना आत्मविश्वास ही अकेले ही इतना सबल और सक्षम बनेगा कि आप एक ही झटके में सफलता के द्वार पर खड़े होंगे। इस समय आपको कारोबार और व्यापार में अच्छा लाभ भी होगा और किसी सुनियोजित कार्य में प्रगति होने से संतोष भी मिलेगा।

और पढ़ें

मकर

कुछ समय के लिए आपके ऊपर बढ़ते खर्च का बोझ लगातार जारी है । आज भी कुछ ऐसी ही संभावनाएं दिखाई पड़ रही हैं, आपके स्वास्थ्य और घरेलू जरूरत को पूरा करने में आपका बजट डामाडोल हो सकता है। ऐसी स्थिति में अपनी जमा-पूंजी को बाहर निकालने में संकोच न करें, क्योंकि समय की मांग यही है।

और पढ़ें

कुंभ

आज का दिन कुछ सुस्त और धीमी गति से शुरू होगा। सुबह आप जिन बातों को लेकर थोड़ा परेशान रहेंगे, दोपहर में वही बातें आपको खुशी देंगी। ऑफिस में अपनी जगह बनाने के लिए सूझ-बूझ से काम लेना होगा। बुद्धि से जुड़े कामों के नतीजे शाम तक मिलने लगेंगे। नई डील फाइनल करने का काम कुछ समय के लिए टाला जा सकता है।

और पढ़ें

मीन

राजनैतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति होगी। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। कार्यक्षेत्र में रुकावटों का सामना करना पड़ सकता है। मनोरंजन के अवसर प्राप्त होंगे। व्यर्थ की भागदौड़ रहेगी।

और पढ़ें

स्पॉटलाइट